रुलाने लगीं आँधियाँ…

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : ०५/०७/२०२० 👉दिन : रविवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : २१२ २१२ २१२ २१२ 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 खूब आकर रुलाने लगी आँधियाँ । रोज यूँ ही सताने लगीं आँधियाँ । 🌹🌹 एक ऐसी हवा छू गयी है जहां जिंदगी आज सबकी बनीं आँधियाँ । 🌹🌹🌹 मौत ठहरी हुयी थी बुलाने लगी वक्त का […]

Read More रुलाने लगीं आँधियाँ…

खुशनसीबी है……

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : २५/०६/२०२० 👉दिन : गुरुवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : 212 212 212 2 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 खुशनसीबी है तकदीर होना । बदनसीबी है जंजीर होना । 🌹🌹 गर बुलंदी इरादों में हो तो फिर बुरा क्या है तस्वीर होना । 🌹🌹🌹 जो इजाफा नहीं दौलतों में फिक्र ही है ये जागीर होना […]

Read More खुशनसीबी है……

स्वदेशी …..

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : २०/०६/२०२० 👉दिन : शनिवार 👉विधा : दोहा 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 देश शसक्त बनाइये, दे पूर्ण योगदान । गद्दारों से मुक्त हो, बढ़े मान सम्मान ।। 🌹🌹 न्यौछावर कर प्राण को, अमर शहीद जवान । एक कहानी लिख गए, खुद को कर कुर्बान ।। 🌹🌹🌹 श्रद्धा सुमन चढ़ाइए, वीर सपूत महान । मिटते […]

Read More स्वदेशी …..

इस नए दौर का….

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : १६/०६/२०२० 👉दिन : मंगलवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : २१२ २१२ २१२ २१२ 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 इस नये दौर का अब चलन देखिये । मौत से पहले थामे कफन देखिये । 🌹🌹 क्यों ये जिंदा रही जीने की आरजू मौत ही आखिरी जब लगन देखिये । 🌹🌹🌹 दोनों हाथों से लूटा किये […]

Read More इस नए दौर का….

हम स्वप्न सजाने आये थे…

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : १४/०६/२०२० 👉दिन : रविवार 👉विधा : मुक्त छंद 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 हम स्वप्न सजाने आये थे, हर स्वप्न तोड़, कर मलते हैं प्रभु स्वर्ग सरीखी दुनिया में, दानव क्यों इतने पलते हैं । 🌹 नित द्वार-द्वार बाजार सजे, दिल के द्वारे व्यापार बसे ये लूट अनोखी, सीख बड़ी, रिश्ते जाते निज बाँह […]

Read More हम स्वप्न सजाने आये थे…

सभी दुश्वारियों में……

👉दिनांक : ०८/०६/२०२० 👉दिन : सोमवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : 1222 1222 122 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 1222 1222 122 जमाने को लगा ये कुछ कमीं है । सभी दुश्वारियों में आदमी है । 🌹🌹 तेरे कूचे में सजदा कर रहे सब निगाहें आसमां दिल में गमी है । 🌹🌹🌹 कहाँ है तू पता अपना बता […]

Read More सभी दुश्वारियों में……

बुढ़ापा

👉दिनांक : ०६/०६/२०२० 👉दिन : शनिवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : 1222 1222 122 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 कहीं दीवार से चिपकी पड़ी थी । बुढ़ापे का सहारा वो छड़ी थी । 🌹🌹 रहे कुछ आरजू मन में दबाकर वही ख्वाबों में तस्वीरें खड़ी थी । 🌹🌹🌹 किया था हर जतन जाना अमानत फरेबी रिश्तों की टूटी […]

Read More बुढ़ापा

महामारी

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹                      🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : १८/०५/२०२० 👉दिन : सोमवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : 2122 1122 1122 22 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 आजमाना खुद को, रात अभी बाकी है अँखियों से बदरा की बरसात अभी बाकी है । 🌹🌹 खौफ जाने कितने दिल में समाया बैठा ढूँढती […]

Read More महामारी

हरजाई

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : ३०/०४/२०२० 👉दिन : गुरुवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : 2122 2122 2212 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 गुजरे लम्हे प्रीत की परछाँई हो गए । याद में बसते जो हरजाई हो गए । 🌹🌹 साथ छूटा तो सितारों में जा बसे दिल के अंदर में वो गहराई हो गए । 🌹🌹🌹 दो कदम चलकर गए […]

Read More हरजाई

जिंदगी

👉दिनांक : २१/०४/२०२० 👉दिन : मंगलवार 👉विधा : मुक्त छंद 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 रात गहरी सही खुद ही ढल जाएगी रोशनी भोर होते फिर निकल आएगी । 🌹 सब्र के बांध को थोड़ा साहस दिखा थामकर बाँह में खोल अपनी शिखा है कठिन काल पर नहीं टिकना इसे हारकर हौंसले से तो है बिकना इसे आज विपदा […]

Read More जिंदगी

कोरोना 4

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👉दिनांक : २०/०४/२०२० 👉दिन : सोमवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : 1222 1222 122 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 महामारी तो दुखदाई हुई है । घड़ी हर मौत मंडराई हुई है । 🌹🌹 बड़ी कोशिश बचे ये जिंदगी तो मगर हर कोशिशें नजराई हुई है । 🌹🌹🌹 तहलका वक़्त का इतना भयावह गमी में नजरें पथराई हुई […]

Read More कोरोना 4

कोरोना 3

👉दिनांक : १६/०४/२०२० 👉दिन : गुरुवार 👉विधा : गजल 👉बह्र : 212 212 212 212 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹 रहनुमा बन रहा देश दुनिया में अब । राज की नीति अच्छी मानो ये सब । 🌹🌹 विश्व नेता बने जिंदगी को बचा धन की माला नहीं आज जीवन है रब । 🌹🌹🌹 काम अच्छा रहा विश्व ये […]

Read More कोरोना 3